समय समय पर महत्वपूर्ण अप्डेट्स पाने के लिए हमसे जुड़ें

घोल मछली को गुजरात की राज्य मछली घोषित किया गया

 


गोल फिश बहुत से लोगों को पसंद होती है. लोग अपने स्वाद के अनुसार अलग-अलग तरह की मछली खाना पसंद करते हैं। घोल मछली उनमें से एक है और आमतौर पर गुजरात और महाराष्ट्र के समुद्री इलाकों में पाई जाती है। करोड़ों डॉलर की यह मछली कई मायनों में फायदेमंद है। इसे हाल ही में गुजरात की राज्य मछली घोषित किया गया था।

सब्जी प्रेमियों के लिए मछली एक लोकप्रिय विकल्प है। लोग इसे अपनी पसंद और स्वाद के अनुसार खाना पसंद करते हैं. मछली प्रेमियों के लिए बाजार में कई तरह की मछलियां उपलब्ध हैं। जहां कई लोगों को नदी की मछली खाना पसंद होता है, वहीं कुछ लोगों को समुद्री मछली खाना पसंद होता है। आपने कई तरह की मछलियां खाई होंगी, लेकिन क्या आपने कभी घोला मछली खाई है? ये कोई ऐसी वैसी मछली नहीं है, ये गुजरात की मछली है. इसके बारे में हमें सब बताएं -

हाल ही में, मुख्यमंत्री भूपेन्द्र पटेल ने अहमदाबाद में दो दिवसीय ग्लोबल फिशरीज इंडिया कॉन्फ्रेंस 2023 के दौरान घोल मछली को गुजरात की राज्य मछली घोषित किया। यह भारत में पाई जाने वाली सबसे बड़ी मछली में से एक है। यह मछली खासतौर पर गुजरात और महाराष्ट्र के समुद्री इलाकों में पाई जाती है। यह मछली सुनहरे भूरे रंग की होती है।

मछली में क्या है खास?

यह मछली विशेष रूप से अपने मांस और हवा के बुलबुले के लिए मांगी जाती है। इसका उपयोग बियर और वाइन बनाने में किया जाता है। इसके वायु बुलबुले का उपयोग औषधियों में भी किया जाता है। घोल मछली के उपयोग की विस्तृत श्रृंखला के कारण, मांस और मूत्राशय अलग-अलग बेचे जाते हैं। सबसे पहले बबल का निर्यात मुंबई से किया जाता है।

कीमत कितनी अधिक है?

जहां तक लंबाई की बात है तो यह मछली करीब डेढ़ मीटर की होती है। सिर्फ लंबाई ही नहीं बल्कि इस मछली की कीमत भी काफी ज्यादा है. कीमत इतनी ज़्यादा है कि उतने पैसे में आप विदेश जा सकते हैं. अगर आपको हमारी बात पर यकीन नहीं है तो हम आपको इसकी कीमत बता देते हैं। गुजरात की राज्य मछली घोल मछली की कीमत 5 लाख रुपये तक हो सकती है, इसलिए जो मछुआरे घोल मछली पकड़ना जानते हैं, वे सालाना लाखों रुपये कमा सकते हैं।