समय समय पर महत्वपूर्ण अप्डेट्स पाने के लिए हमसे जुड़ें

राजस्थान के नए CM का फैसला आज




राजस्थान में इस बात को लेकर काफी असमंजस और असहमति हो रही है कि राज्य का नेता कौन हो. लेकिन 12 दिसंबर को सब सुलझ जाएगा. बीजेपी राजनीतिक दल के सभी सदस्यों को मंगलवार को एक बैठक में आने के लिए कहा गया है. मंगलवार को सुबह 10 बजे राजनाथ सिंह नामक एक व्यक्ति भी यह देखने और यह सुनिश्चित करने के लिए जयपुर आएंगे कि सब कुछ ठीक से चल रहा है. अन्य दो लोग सरोज पांडे और विनोद तावड़े आज रात जयपुर आएंगे।

शाम 4 बजे बीजेपी दफ्तर में बैठक होगी. विधायक टीम एक-दूसरे से अलग-अलग बात करेगी. लंच के बाद सीएम किसी के नाम की घोषणा कर सकते हैं।

छत्तीसगढ़ में कुछ लोग हैं जिन्हें आदिवासी कहा जाता है और मध्य प्रदेश में कुछ लोग हैं जिन्हें ओबीसी कहा जाता है। जब कोई मुख्यमंत्री बनता है तो माना जाता है कि वह इन्हीं समूहों से हो सकता है. हैरानी की बात है कि राजस्थान में भी ऐसा ही हुआ है. कालीचरण सराफ, प्रताप सिंह सिंघवी, बाबू सिंह राठौड़, जसवन्त यादव, अशोक परनामी, राजपाल सिंह शेखावत और प्रह्लाद गुंजल जैसे सामान्य वर्ग के कुछ महत्वपूर्ण लोग सोमवार को पूर्व मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे के घर गए।

बीजेपी नामक राजनीतिक दल के एक नेता ने कहा कि उनकी पार्टी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वजह से काफी वोट मिले हैं. उन्होंने कहा कि भले ही वह एक महत्वपूर्ण नेता हैं, लेकिन सिर्फ उनके चेहरे की वजह से पार्टी को वोट नहीं मिले. उन्होंने यह भी कहा कि किसी को फोन करके उनकी पार्टी की संस्कृति में समर्थन मांगना शिष्टाचार नहीं है।

विधायक (विधानसभा सदस्य) एक बैठक करने जा रहे हैं, जिसका अर्थ है कि वे इकट्ठा होने जा रहे हैं और एक-दूसरे से विनम्रता से बात करेंगे।

भाजपा नामक एक राजनीतिक दल के नेता ने कहा कि महत्वपूर्ण लोगों के एक समूह, जिन्हें विधायक कहा जाता है, की एक अन्य महत्वपूर्ण व्यक्ति, जिसका नाम वसुंधरा राजे है, के साथ बैठक हुई। उन्होंने कहा कि यह सिर्फ एक विनम्र मुलाकात थी. उन्होंने यह भी बताया कि राजे पहले भी पार्टी में महत्वपूर्ण पदों पर रह चुकी हैं। निर्वाचित पदाधिकारी पार्टी के अन्य महत्वपूर्ण लोगों से भी मुलाकात करते रहे हैं।

वह पार्टी कार्यालय भी जाते हैं. यह एक नियमित बैठक है. जब प्रह्लाद गुंजल ने कहा कि वसुंधरा राजे मुख्यमंत्री बनेंगी तो जोशी ने कहा कि उन्हें इसकी जानकारी नहीं है लेकिन वे इस पर विचार करेंगे. जोशी ने यह भी कहा कि वे जल्द ही सांसदों के साथ बैठक करेंगे।

बीजेपी से मिली जानकारी के मुताबिक वे मंगलवार को अपना नेता चुनेंगे. इसके बाद वे राज्यपाल से कहेंगे कि वे सरकार बनाना चाहते हैं. फिर, 15 दिसंबर को जयपुर में उनका एक विशेष समारोह होगा जहां नए मुख्यमंत्री 10 से अधिक अन्य मंत्रियों के साथ शपथ लेंगे।

बेहद अहम नेता रहीं वसुंधरा राजे 10 दिसंबर को दिल्ली से जयपुर आईं. दोपहर में उनके राजनीतिक दल के कुछ सदस्य उनसे मिलने उनके घर आये। वे जो कानून बनाना चाहते हैं, उसके बारे में बैठक करने से पहले उनके लिए उनसे मिलना जरूरी है। अशोक परनामी, देवी सिंह भाटी, राजपाल सिंह शेखावत और प्रह्लाद गुंजल जैसे कुछ अन्य महत्वपूर्ण लोग भी वसुंधरा से मिलने आये।

बहुत अधिक अनुभव वाला मुख्यमंत्री होना वास्तव में महत्वपूर्ण है, जैसे किसी ऐसे व्यक्ति का होना जो बहुत कुछ जानता हो और अच्छा काम कर सके।

पूर्व विधायक प्रहलाद गुंजल का मानना है कि राजस्थान की अर्थव्यवस्था खराब होती जा रही है, ऐसे में ऐसे मुख्यमंत्री को चुनना जरूरी है, जिसके पास काफी अनुभव हो. फिलहाल, राजस्थान में एकमात्र नेता जिनके पास यह अनुभव है, वह हैं वसुंधरा राजे। राजस्थान की जनता इससे सहमत है और चाहती है कि वह अगली मुख्यमंत्री बनें. मेरा भी मानना है कि वसुन्धरा राजे ही राजस्थान की अगली मुख्यमंत्री होनी चाहिए।