समय समय पर महत्वपूर्ण अप्डेट्स पाने के लिए हमसे जुड़ें

NITI आयोग और IFPRI ने कृषि और ग्रामीण विकास के लिए Sol पर हस्ताक्षर किए

NITI आयोग और IFPRI ने कृषि और ग्रामीण विकास के लिए Sol पर हस्ताक्षर किए

 नेशनल इंस्टीट्यूशन फॉर ट्रांसफॉर्मिंग इंडिया (नीति आयोग) और इंटरनेशनल फूड पॉलिसी रिसर्च इंस्टीट्यूट (आईएफपीआरआई) एक साथ काम करने पर सहमत हुए हैं। वे यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि भारत में योजनाएं और कार्यक्रम देश को आगे बढ़ने और विकास करने में मदद करें।

पांच साल का आशय पत्र आईएफपीआरआई को कई महत्वपूर्ण तरीकों से नीति आयोग के साथ मिलकर काम करने की अनुमति देता है। वे यह मापने जैसी चीजों पर काम करेंगे कि ग्रामीण क्षेत्रों में कितना सुधार हो रहा है, महत्वपूर्ण कार्यक्रमों की योजना बनाने और उनका मूल्यांकन करने में मदद करना, नीति को समझने के लिए उपकरण बनाना और भारत का खाद्य और कृषि व्यापार बाकी दुनिया से कैसे जुड़ा है, इसके बारे में जानकारी इकट्ठा करना। नीति आयोग एक ऐसा समूह है जो यह सुनिश्चित करने में मदद करता है कि भारत के विकास कार्यक्रम अच्छी तरह से काम कर रहे हैं, खासकर खेती और ग्रामीण क्षेत्रों के लिए।

IFPRI और NITI भारत में भोजन उगाने और बेचने के तरीके को बेहतर बनाने में मदद करने के लिए मिलकर काम करेंगे। वे खेती, ग्रामीण क्षेत्रों की मदद, व्यापार और पर्यावरण की रक्षा जैसी चीजों पर ध्यान केंद्रित करेंगे। वे यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि देश के लिए खाद्य प्रणाली अच्छी हो और वे कई अलग-अलग समस्याओं पर काम करेंगे। वे जो सीखते हैं उसे अन्य समूहों के साथ भी साझा करेंगे जो दुनिया भर में खाद्य प्रणालियों को बेहतर बनाने की कोशिश कर रहे हैं।

नीति आयोग के उपाध्यक्ष श्री सुमन बेरी ने कहा कि भारत के विकास के लिए कृषि क्षेत्र बहुत महत्वपूर्ण होगा। हमें ऐसी फसलें उगाने के बेहतर तरीके खोजने की जरूरत है जो पर्यावरण और मिट्टी के लिए अच्छी हों। यदि हम कृषि को बेहतर बना सकें तो इससे पूरे देश की अर्थव्यवस्था को मदद मिलेगी। आईएफपीआरआई महत्वपूर्ण मुद्दों पर स्पष्ट तरीके से बात करने में अच्छा है। कृषि, जलवायु परिवर्तन और व्यापार में समस्याओं को हल करने के लिए मिलकर काम करना सभी का काम है।

नीति आयोग के प्रोफेसर रमेश चंद ने कहा कि उन्हें लगता है कि इस समझौते से नीति आयोग और आईएफपीआरआई को एक साथ बेहतर काम करने में मदद मिलेगी। इससे भारत और अन्य विकासशील देशों को अपनी अर्थव्यवस्थाओं को विकसित करने में मदद करने के लिए कृषि अधिक महत्वपूर्ण हो जाएगी। यह हमें नई चीजें सीखने और नए विचार प्राप्त करने में भी मदद कर सकता है।